सरकारी दावे ठुस, गांव ढुड़ियावाली का उच्च विद्यालय 1 नियमित पीटीआई अध्यापक के सहारे

News
 प्रशासन व विभाग की नाकामी से 300 बच्चों का भविष्य अधर में
Newsofficer.in | Education News
राजकीय स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को बेहतर शिक्षा देने के लिए शिक्षा विभाग बेशक नई-नई योजनाऐं बना रहा हो, लेकिन स्कूलों में शिक्षा स्तर बेहतर करने के लिए पहले शिक्षक जरूरी है । यदि शिक्षक ही नहीं होगें तो बच्चे कैसे पढ़ेंगे, और कैसे आगे बढ़ेंगे । गांव ढुड़ियावाली का राजकीय उच्च विद्यालय भी इन दिन कुछ ऐसी ही समस्या से जूझ रहा है। स्कूल में पढ़ने वाले करीब 300 बच्चों का भविष्य केवल 1 नियमित पीटीआई अध्यापक के सहारे है । शिक्षकों की इस कमी को पूरा करने के लिए स्कूल एसएमसी कमेटी संघर्ष कर रही है । इसके बावजूद प्रशासन व विभाग के अधिकारियों के कानों पर जूं तक नहीं रेंग रही ।
                  एसएमसी कमेटी सदस्यों ने बताया कि गांव के राजकीय उच्च विद्यालय में इस समय केवल 1 नियमित पीटीआई अध्यापक है जबकि 12 पद खाली हैं। स्कूल में करीब 300 बच्चे शिक्षा ले रहे हैं । अब बिना शिक्षकों के इन सभी बच्चों की पढ़ाई अधर में लटक कर रह गई है । यह सब विभाग व प्रशासन की नाकामी का परिणाम है । बच्चों के भविष्य को देखते हुए उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व प्रदेश शिक्षा मंत्री को पत्र लिखा है । स्थानीय अधिकारियों को भी इस पत्र की प्रति भेजी है। इसके बावजूद अभी तक कोई कार्रवाई अमल में नही लाई गई । साफ है कि सरकार व विभाग केवल नई-नई योजनाऐं बनाने में व्यस्त है, उन्हें बच्चों की पढ़ाई की कोई चिंता नहीं है।
क्या विभाग धरने प्रदर्शन के इंतजार में
————————————————–
अभिभावक दलीप, सुनील, संदीप, प्रमोद कुमार, महेन्द्र कुमार, विनोद कुमार, ओमप्रकाश, देवीलाल का कहना है कि उनके बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है । सरकार व विभाग का इस ओर कोई ध्यान नहीं है । शायद वह इस बात के इंतजार में हैं कि कोई धरना प्रदर्शन करें तभी समस्या का हल करेंगे । शिक्षा विभाग इस ओर ध्यान देते हुए शीघ्र अध्यापकों की नियुक्ति करें, ताकि बच्चों की पढ़ाई प्रभावित न हो ।
विभाग में शिक्षकों की कमीं
——————————
विभाग में शिक्षकों की बेहद कमी है । हाल ही में अध्यापकों के हुए तबादलों के बाद अधिकतर स्कूलों में समस्या आ रही है । उच्च अधिकारियों से इस बारे में चर्चा की जा रही है । बच्चों की पढ़ाई खराब न हो इसके लिए हर स्कूल में शीघ्र ही संतुलन बना दिया जाएगा । विरेंद्र मैहत्ता, खंड शिक्षा अधिकारी रानियां 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *